Loksabha chunaw ubgl blast : लोकसभा चुनाव के दौरान UBGL फटने से CRPF जवान घायल जाने इसके बारे में

 

Loksabha chunaw ubgl blast | लोकसभा चुनाव के दैरान UBGL ब्लास्ट

जैसा की हम जानते है की वर्तमान में भारत में चारो ओर केवल लोकसभा चुनाव की बात की जा रही है | जिसमे सभी राजनितिक पार्टी अपना अपना भरपूर जोर लगा रही है | आज से अर्थात 19 अप्रैल सन 2024 से भारत में लोकसभा चुनाव का पहले चरण का चुनाव शुरू हो गया है | इसी दौरान छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले के बीजापुर में लोकसभा चुनाव के दैरान ही मतदान केंद्र से 500 किलोमीटर की दुरी पर UBGL के अचानक फट जाने से CRPF का एक जवान घायल हो गया जिसे तुरंत ही अस्पताल रेफर किया | जिसमे इलाज के दैरान जवान शहीद हो गया |

दरअसल बस्तर जिले में 19 अप्रैल 2024 से लोकसभा चुनाव का पहला चरण शुरू हुआ है | मतदान केन्द्रों की सुरक्षा के लिए पुरे बस्तर जिले में कड़ी सुरक्षा की व्यवस्था की गयी है जिसमे 80 हजार सुरक्षा बालो को तैनात किया गया है | इसी दौरान बीजापुर में मतदान केंद्र की सुरक्षा में तैनात एक जवान अचानक  UBGL के फटने से एक जवान हायल हो गया | जिसका उपचार कैम्प में ही किया जा रहा है | और इसी इलाज के दैरान घायल जवान शहीद हो गया |

इस घटना में घायल हुआ जवान CRPF-196 वी बटालियन का बताया जा रहा है |  CRPF  की टीम मतदान केंद्र से 500 किलोमटर की दुरी पर सर्च ओपरेशन कर रही थी दौरान UBGL  अचनक् से ब्लास्ट हो गया | एक्सिडेन्टली UBGL ब्लास्ट में शहीद होने वाले जवान का नाम देवेन्द्र कुमार बताया जा रहा है | जो CRPF के 196 वी बटालियन के कांस्टेबल के पद पर कार्यरत था | शहीद देवेन्द्र कुमार बस्तर जिले के ही धोबिगुडा रहने वाले थे |

UBGL  ब्लास्ट में शहीद होने वाले देवेन्द्र कुमार जी 32 वर्ष के थे | जो नक्सलियों द्वारा लगये गये UBGL  सेल के फट जाने से वे बुरी तरह से हो गये | और उन्हें इलाज के लिए तुरंत ही जगदलपुर मेडिकल कॉलेज ले जाया गया जहा इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गयी |

Loksabha chunaw ubgl blast
Loksabha chunaw ubgl blast

UBGL  क्या है ?

UBGL का पूरा नाम अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर है | इसका प्रयोग मुख्य सेनाओ के द्वारा ही किया जाता है | इसकी अच्छी मारक क्षमता के कारन इसे सन 2010 में नक्सली मोर्चे पर तैनात सुरक्षा बलों को दिया गया 14 मार्च सन 2011 में जवानों ने इसका प्रयोग चिंतलनार इलाके में किया गया | और इससे नक्सलियों को बुरी तरह से झुलसा दिया | इसे अलग अलग रेंज से तैनात किया जा सकता है | यह उपकरण इंसास राइफल 1 बी और एके – 47 राइफल के लिए जोड़ने पर है | अब तक लगभग 10 हजार NB UBGL  का निर्माण किया जा चुका अहि जिन्हें सेनाओ को सौपा जा चूका है |

अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर
अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर

CRPF की संक्षिप्त जानकारी

CRPF का पूरा नाम है | केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल 27 जुलाई सन 1939 को क्राउन रिप्रेजेंटेटिव के पुलिस के रूप में अस्तित्व में आया था | जो 28 दिसंबर 1949 को CRPF अधिनियम लागू होने पर केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल बन गया |  CRPF भारत देश का सबसे बड़ा केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल है | और यह मुख्य रूप से भारत के सभी हिस्सों में कानून व्यवस्था बनाये रखने में , उग्रवाद विरोधी , और आतंकवाद विरोधी अभियानों के लिए जिम्मेदार है |

केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल

केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल अपनी शानदार बहादुरी और अपने कार्यो के दम पर देश का सबसे बडा अर्धसैनिक बल बन गया | केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल देश और राज्यों के भीतर शांति बनाये रखने अपनी भूमिका निभाता है | सन 1947 में भारत के पहले गृह मंत्री माननीय सरदार वल्लभभाई पटेल की सरकार के दूरदर्शी नेत्रित्व में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल का पुनर्गठन किया गया |

ये भी पढ़े –

1.Loksabha chunav chhattisgarh 2024 : लोकसभा चुनाव छत्तीसगढ़ जाने कहा से किसे मिला है सिट

2.gram lamkeni abhanpur : ग्राम लमकेनी अभनपुर छत्तीसगढ़ की प्रमुख बाते

3.khubchand baghel chhattisgarh : खूबचंद बघेल जी जाने इनकी खास बाते

4.Raipur jila chhattisgarh : रायपुर जिला छत्तीसगढ़ के बारे में जानिए सम्पूर्ण जानकारी

5.Durg jila chhattisgarh : दुर्ग जिला छत्तीसगढ़ की कुछ ख़ास जानकारिया

 

 

Leave a Comment