Durg jila chhattisgarh : दुर्ग जिला छत्तीसगढ़ की कुछ ख़ास जानकारिया

 

Durg jila chhattisgarh | दुर्ग जिला छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ का दुर्ग जिला अपने आप में एक समृद्ध जिला है | इस जिले की ख़ास बात यह है की यह जिला छत्तीसगढ़ का सबसे शिक्षित जिला है | दुर्ग को समृद्ध बनाने में शिक्षा का महत्वपूर्ण योगदान रहा है | दुर्ग जिले क भिलाई शहर में स्थित भिलाई स्टील प्लांट इसकी समृद्धि का और एक कारन है | भिलाई स्टील प्लांट दुर्ग जिले की शान है | दुर्ग जिला छत्तीसगढ़ की मशहूर पंडवानी गायिका तीजन बाई और छत्तीसगढ़ के लोक कला के उद्धारक रामचंद्र देशमुख का जन्म स्थान भी है |

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमत्री माननीय भूपेश बघेल जी भी छत्तीसगढ़ जिले से ही सम्बंधित है | छत्तीसगढ़ के इस दुर्ग जिले में लगभग 35 से भी अधिक प्रकार की जनजातियाँ निवास करती है जो अपने भिन्न भिन्न प्रकार की कला संस्कृति , परम्पराओ और नृत्य , गीत आदि के द्वारा छत्तीसगढ़ को समृद्ध बनाती है | दुर्ग जिले का पुराना नाम शिवदुर्गा था जिसे संकुचित करके उरग कर दिया गया |

हेमचंद यादव विश्वविद्यालय
हेमचंद यादव विश्वविद्यालय

दुर्ग जिले की प्रशासनिक जानकारी

छत्तीगसढ़ क्व दुएग जिले का गठन 1 जनवरी 1906 में रायपुर और बिलासपुर के कुछ हिस्सों को मिलाकर किया गया | इससे पहले दुर्ग रायपुर जिले का एक तहसील मात्र था | दुर्ग जिले का क्षेत्रफल 2718.62 वर्ग किलोमटर में फैला हुआ है | सन 2011 में मनमोहन सिंह जी के सरकार के समय की गयी जनगणना में छत्तीसढ़ दुर्ग जिले की जनसख्या 1,72,1948 थी | इनमे अनुसूचित जनजाती के 1,01,188 और अनुसूचित जाती के 2,45,587  लोग रहते है |

वर्तमान में दुर्ग जिले में 24 तहसील मौजूद है | दुर्ग जिले की प्रमुख नदी में शिवनाथ नदी शामिल है | शिवनाथ नदी , महानदी की सहायक नदी है | दुर्ग जिले में कुल 3 ब्लाक है जिनमे दुर्ग , पाटन , और धमधा शामिल है   | जीमे दुर्ग जिले के दुर्ग ब्लाक में 81 गाँव , धमधा ब्लाक में 162 गाँव , पाटन ब्लाक में 146 गाँव आते है | दुर्ग जिले कुल 389 गाँव पाए जाते है |

दुर्ग जिले के सीमावर्ती जिलो में राजनांदगाव , रायपुर , बेमेतरा , बालोद जिला , धमतरी जिला शामिल है | दुर्ग जिले का वर्तमान कलेक्टर सुश्री त्रिचा प्रकाश चौधरी जी है | वर्तमान में दुर्ग जिले का सांसद माननीय विजय बघेल जी है | ये महोदय माननीय भूपेश बघेल जी के भतीजे है | जो भारतीय जनता पार्टी की ओर से वर्तमान मे सांसद है |

शासकीय चंदुलाल चंद्राकर महाविद्यालय
शासकीय चंदुलाल चंद्राकर महाविद्यालय

दुर्ग जिले का इतिहास

दुर्ग जिल्र का गठन 1 जनवरी सन 1906 में हुआ था | दुर्ग जिले का गठन रायपुर और बिलासपुर के कुछ क्षेत्रो को लेकर किया गया था | उस समय राजनांदगाव और कवर्धा भी दुर्ग जिले का हिस्सा था | 26 जनवरी सन 1973 को ये जिले दुर्ग से विभाजित हो गये | फिर 6 1998 को राजनंदगाव भी विभाजित हो गया और न्य जिला कवर्धा बना | दुर्ग जिला प्राचीन महाकौशल का भाग था | यहाँ बौद्ध , जैन , गुप्त वंश , आदि राजवंशो ने शासन किया है |

दुर्ग जिले के उद्योग

भिलाई स्टील प्लांट प्रदेश का एक मात्र स्टील का कारखाना दुर्ग के भिलाई में स्थित है | छत्तीसगढ़ का पहला सीमेंट कारखाना एसोसिएट सीमेंट कंपनी भी दुर्ग जिले के जामुल में स्थित है | दुर्ग जिले अनेको राईस मिल , सरसों से तेल निकालने के संयत्र भी लगे हुए है | इमारती लकड़ी को चीरने वाली मशीन , प्लाई बोड बनाने की कंपनी भी लगे हुए है |सिगरेट कारखाना , सोयाबीन साल्वेंट एक्सट्रैक्शन प्लांट , कुम्हारी क्षेत्र में धर्म सी मोरारजी केमिकल फैक्ट्री भी स्थापित है | ब्रास और बेल मेटल कास्टिंग , गारमेंट मेनुफच्रिंग यूनिट , मिल्क प्रोस्सेसिंग यूनिट पाटन में गुलाल यूनिट भी मौजूद है |

जिले उच्च गुणवत्ता वाले चुने पत्थर का समृद्ध भंडार भी है | चुना पत्थर का खनन मुख्यत: नंदिनी , सेमरिया , खुदनी , पिथौरा , अहिवारा आदि क्षेत्रो में होता है | और इसका उपयोग स्टील सीमेंट कंपनियों में होता है |

दुर्ग जिले का पर्यटन स्थल

  1. नागपुरा में उवासग्गाहरम पार्स्व तीर्थ स्थल – नागपुर का जैन मंदिर श्री पार्श्व नाथ जी को समर्पित है | श्री पार्स्व नाथ जैन मंदिर जैन धर्म के 23 वे तीर्थ कर थे | जैन कथाओ के अनुसार तीर्थकर बनने के लिए पार्स्व नाथ जी को युद्ध लड़ने पड़े थे |
  2. धमधा फोर्ट – दुर्ग जिले का धमधा फोर्ट भी अपनी अद्भुद सुरक्षा व्यवस्था के लिए ओउरे भारत वर्ष में सुप्रसिद्ध है | यह किला गोंड राजाओ के द्वारा बनाया गया था | इस किले में के चारो तरफ 126 तालाब है | इस कारन से धमधा को छह कोरी या छह आगार तरिया यानी 126 तालाबो का गांव भी कहा जाता है | दुश्मनों के लिए इसा किले पर आक्रमण करना आसान नही था |
  3. तांदुला बाँध – दुर्ग से लगभग 70 किलोमटर की दूर पर सुन्दर तांदुला बांध बना हुआ है | जहा पर सैकड़ो सैलानी घुमने आते है | इस बाँध को सन 1921 में तदुला और सुखा नाला नदियों के संगम से बनाया गया था | यह एक बहुत ही दुन्दर पिकनिक स्थल है | इसके अलावा शिव मंदिर , गंगा मईया मंदिर , बालाजी मंदिर भिलाई , सिरडी साई बाबा मंदिर , तरिघात एतिहासिक धरोहर भी इसी जिले में औजुद है |
शासकीय दानवीर तुला राम महाविद्यालय
शासकीय दानवीर तुला राम महाविद्यालय

दुर्ग जिले के शैक्षणिक संस्थान

दुर्ग जिले में तीन विश्वविद्यलय है -1. हेमचंद यादव विश्वविद्यालय 2. स्वामी विवेकानन्द तकनिकी विश्वविद्यालय 3. कामधेनु विश्वविद्यालय

दुर्ग जिले के प्रमुख महाविद्यालय – 1. शासकीय चंदुलाल चंद्राकर महाविद्यालय 2.शासकीय दानवीर तुला राम महाविद्यालय 3. शासकीय पोलिटेकनिक कॉलेज दुर्ग 4. शासकीय डॉ.वामन वासुदेव पाटनकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय आदि

दुर्ग जिले के स्कूल – 1. शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल 2. शासकीय इंगलिश मीडियम स्कूल 3. विश्वदीप सीनियर सेकंडरी स्कूल 4. वामन राव लाखे स्कूल 5. महर्षी विद्या मंदिर आदि

इसी तरह की महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए हमारे इस पेज को जरुर फोलो करे – sujhaw24.com

ये भी पढ़े-

1.phulbasan bai yadav : फुलबासन बाई यादव जी का जीवन परिचय

2.Dr.ramam sinh : डॉ. रमण सिंह छत्तीसगढ़ के बारे में जाने कुछ अनसुनी बाते

3.Ajit jogi chhattisgarh : अजित जोगी जी की कुछ ख़ास जानकारिया

4.kavi surendra dube : कवी  सुरेन्द्र दुबे जी छत्तीसगढ़ जाने बारे में 

5.sarangarh – bilaigarh chhattisgarh : सारंगढ – बिलाईगढ़ छत्तीसगढ़ जाने यहाँ की प्रमुख बाते

Leave a Comment