NEET Entrance Exam : नीट प्रवेश परीक्षा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

नीट का इतिहास : history of NEET

नीट का पूरा नाम नेशनल एजिलिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट है| यह एक राष्ट्रिय स्तर की प्रवेश परीक्षा है| जो NTA द्वारा आयोजित किया जाता है| नीट परीक्षा का आयोजन का मुख्य कारन भारत में मेडिकल सीटो पर प्रवेश देना है| 2013 से पहले NEET को All India Pre Medical Test (AIPMT) कहा जाता था| फिर 5 मई 2013 को देश में पहली बार NEET परीक्षा का आयोजन किया गया| 2018 में आखिरी बार NEET परीक्षा आयोजित की गयी थी| उसके बाद सितम्बर 2019 NMC अधिनियम 2019 के बाद नीट-यूजी भारत के मेडिकल कालेजो में प्रवेश के लिए एकमात्र प्रवेश परीक्षा बन गयी| NEET एग्जाम साल में दो बार होता है| और अभी तक नीट परीक्षा के प्रयासों की संख्या पर कोई प्रतिबन्ध नहीं है|

NEET, neet , NEET exam , neet exam, नीट प्रवेश परीक्षा, NEET entrance, neet entrance, नीट
नीट , NEET

नीट में सीटे : Seats in NEET 

NMC वेबसाईट के अनुसार नीट में कुल 1,01,388 MBBS सीटे है| साल 2023 में नीट-यूजी के जरिये मेडिकल और डेंटल कालेजो में कुल 1,70,870 सीटे दी गयी थी| इसमें से सरकारी कालेजो में लगभग 48,012 MBBS सीटे और निजी कालेजो में 43,915 सीटे थी| साल 2024 में NEET MBBS के लिए कुल 1,01,043 सीटे है| इसमें से 48,265 सीटे निजी संस्थानों में है| इसके अलावा 27,868 BDS सीटे है| 603 BVSC और AH सीटे और 52,720 आयुष सीटे है| भारत में 704 मेडिकल कालेजो में 379 सरकारी और 315 प्राइवेट मेडिकल कालेज है|

नीट परीक्षा के विषय : subject of NEET exam

NEET परीक्षा में तीन विषय होते है| भौतिक, रसायन, और जीव विज्ञानं | जीव विज्ञानं को दो भागो में बंटा गया है- बॉटनी और जूलॉजी| नीट paper में चार खंड होते है| NEET परीक्षा में 200 प्रश्न पूछे जाते है| जिसमे से बायोलॉजी के 50 प्रश्न, जूलॉजी के 50 प्रश्न, भौतिक के 50 प्रश्न, रसायन के 50 प्रश्न पूछे जाते है| इसमें से हर एक विषय को A औए B सेक्शन में बांटा जाता है| इसमें सेक्शन A में 35 प्रश्न और सेक्शन B में 15 प्रश्न होते है| NEET परीक्षा की अवधि तीन घंटे 20 मिनट की होती है| इसमें से उम्मीदवारों को तीनो विषयो में  180 बहुविकल्पीय प्रश्नों का उत्तर देना होता है|

नीट में अंको के अनुसार सरकारी कालेजो में प्रवेश :-

NEET में सरकारी कालेज के लिए सामान्य वर्ग के छात्रों को कम से कम 620 अंक लेन होते है| पिछड़े वर्ग के छात्रों को सरकारी कालेजो में प्रवेश के लिए कम से कम 575 अंक लाने होते है| अनुसूचित जाती के छात्रों के लिए 480 अंक काफी होते है| नीट की परीक्षा कुल 720 अंको की होती है| सरकार की नीट आरक्षण निति के अनुसार मेडिकल संस्थानों और विस्वविद्यायलो में 15% सीटे SC श्रेणी के लिए और 7.5% ST श्रेणियों के लिए होता है| सरकारी कालेज में नामांकन के लिए आवश्यक औसत NEET Score की लिमिट 655-503 है|

After Passing NEET : नीट पास करने के बाद 

नीट की परीक्षा पास करने के बाद उम्मीदवार अपने स्कोर और रैंक के आधार पर मेडिकल और डेंटल कालेजो में प्रवेश के लिए प्रयास करते है| सरकारी कालेजो में प्रवेश 15% अखिल भारतीय कोटा (AIQ) और 85% राज्य कोटे की सीटो के आधार पर होता है| मोटे तौर पर 620 से ज्यादा स्कोर होने पर उम्मीदवारों के सरकारी कालेजो में प्रवेश मिलने के चांस बढ़ जाते है| नीट-यूजी पास करने के बाद विद्यार्थी MBBS और BDS जैसे कोर्स में प्रवेश ले सकते है| इसके अलावा BAMS, BHMS, BNYS, BPT, BSMS, BUM. B.Sc नर्सिंग और BVSc और AH जैसे कोर्स भी है|  भारत में MBBS की फीस 2,000 रुपये से लेकर 25 लाख रुपये के बिच होती है| सरकारी कालेजो में MBBS की फीस 2,000 से 14,000 तक हो सकती है| और प्राइवेट कालेजो में इसकी फीस 10 लाख से 25 लाख हो सकती है|

after neet, MBBS, mbbs , doctor, neet-ug, NEET-UG
MBBS

यह भी पढ़े :-

1.Kisan andolan : किसान आन्दोलन का इतिहास और वर्तमान देखिये सबकुछ

2.Social Media Use And Misuse : सोशल मीडिया अच्छा या बुरा देखिये सम्पूर्ण जानकारी

3.AI CHAT JEMINI : ए.आई चैटबोट जेमिनी बेहत ही कम का AI जाने इसके बारे में

4.Chhattisgarh Lok Kala Sanskriti : छत्तीसगढ़ की लोककला एवं संस्कृति

5.Chandrayaan : चंद्रयान 1 तथा 2 और 3 के बारे में देखिये सम्पूर्ण जानकारी

Leave a Comment