kavi surendra dube : कवी  सुरेन्द्र दुबे जी छत्तीसगढ़ जाने बारे में 

 

 

kavi surendra dube  | कवी  सुरेन्द्र दुबे जी छत्तीसगढ़

सुरेंद्र दुबे (Surendra Dubey) कॉमिक कविताओं के एक भारतीय व्यंग्यवादी और लेखक हैं। वह पेशे से एक आयुर्वेदिक चिकित्सक भी हैं। दुबे का जन्म 8 जनवरी 1953 को भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ में दुर्ग के बेमेतरा में हुआ था। उन्होंने पांच किताबें लिखी हैं वह कई मंचो और टेलीविजन शो पर दिखाई दिया है।सुरेंद्र दुबे (Surendra Dubey) कॉमिक कविताओं के एक भारतीय व्यंग्यवादी और लेखक हैं। वह पेशे से एक आयुर्वेदिक चिकित्सक भी हैं। दुबे का जन्म 8 जनवरी 1953 को भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ में दुर्ग के बेमेतरा में हुआ था। उन्होंने पांच किताबें लिखी हैं वह कई मंचो और टेलीविजन शो पर दिखाई दिया है।

 वैसे तो इस दुनिया में काफी लोग अपने काम में और अपने सपनों में उपलब्धी पाना चाहते है इनमे से कई लोग तो अपने सपनो को अपने काबिलियत के दम पर पूरा कर लेते है तो कही बेहतर वक्त या अपनी कला को दिखाने का बेहतर मौका ढूंढते है, आज के दिनों में आपको अपनी कला निखारने के लिए सोशल मीडिया का माध्यम मिलता है, जिससे आप आसानी से अपने कला को दुनिया के कोने कोने तक पंहुचा सकते है |

कवी  सुरेन्द्र दुबे जी छत्तीसगढ़ 
कवी  सुरेन्द्र दुबे जी छत्तीसगढ़

सुरेन्द्र दुबे जी का जन्म

सुरेंद्र दुबे (Surendra Dubey) का जन्म 8 जनवरी सन 1953 को छत्तीसगढ़ राज्य के दुर्ग जिले में बेमेतरा गाव में हुआ था। वे छत्तीसगढ़ के प्रशिद्ध व्यंग्यवादी और लेखक हैं । वह पेशे से एक आयुर्वेदिक चिकित्सक भी हैं ।

पुरष्कार एवं सम्मान 

उन्हें भारत सरकार द्वारा 2010 में, देश के चौथे उच्चतम भारतीय नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। डॉ. सुरेन्द्र दुबे को उन्हें हिंदी कविता में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए काका हाथरसी पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्होंने पांच किताबें लिखी हैं और कई स्टेज और टेलीविज़न शो में दिखाई भी दिये हैं । उन्होंने विदेशों में भी कवि सम्मेलन में काफी नाम कमाया है। सुरेंद्र दुबे “छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग” के प्रथम सचिव थे।

पद्मश्री डॉ सुरेंद्र दुबे
पद्मश्री डॉ सुरेंद्र दुबे

 

पद्मश्री डॉ. सुरेन्द्र दुबे ने देश ही नहीं विदेशों में भी अपनी कविताओं से सबका दिल जीता है। उन्हें अमेरिका (America) के वाशिंगटन (Washington) में अंतरराष्ट्रीय हिन्दी एसोसीएशन द्वारा आयोजित समारोह में पद्मश्री डॉ सुरेंद्र दुबे को हास्य शिरोमणि सम्मान 2019 से सम्मानित किया गया था।

डॉ. सुरेंद्र दुबे छत्तीसगढ़ के उन गिने चुने कवियों में से हैं जिन्होंने छत्तीसगढ़ी भाषा को पूरे विश्व तक पंहुचाया है। उन्होंने छत्तीसगढ़ी में कविताओं के जरिए देश-विदेश में लाखों लोगों को मंत्रमुघ्ध किया है उनकी सरल काव्य शैली के कारण उन्हें सब बहुत पसंद करते हैं।

इसी तरह की महत्व पूर्ण जानकारियों के लिए हमारे इस पेज को जरुर फोलो करे – sujhaw24.com

ये भी पढ़े –

1.sarangarh – bilaigarh chhattisgarh : सारंगढ – बिलाईगढ़ छत्तीसगढ़ जाने यहाँ की प्रमुख बाते

2.manrenga karykram : मंरेंगा कार्यक्रम छत्तीसगढ़ की जाने बढ़ी हुयी दर

3.Raigarh jila chhattisgarh : रायगढ़ जिला छत्तीसगढ़ के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

4.bhilai spaat sayntr durg : भिलाई स्पात संयत्र दुर्ग छत्तीसगढ़

5.chhattisagrh ka navin jila sakti : छत्तीसगढ़ का नविन जिला सक्ती

6.pandit sundar lal sharma : पंडित सुन्दर लाल शर्मा छत्तीसगढ़

7.sant gahira guru : संत गहिरा गुरु जी छत्तीसगढ़

 

Leave a Comment