world book day 2024 : विश्व पुस्तक दिवस 2024 जाने इसका महत्व , इतिहास क्यों मनाया जाता है

 

world book day 2024 | विश्व पुस्तक दिवस 2024

world book day 2024 : पुस्तक हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग जो किसी को भी आम इंसान से एक महँ इंसान में बदल सकती है | पुस्तक विद्यार्थी जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है , पुस्तक जीवन को सुखी बना देता है | पुस्तक में हमारी जीवन को एक नई दिशा दे सक्ती है | कहा जाता है की एक मनुष्य का सबसे अच्छा साथी दोस्त एक किताब ही होता है | कहते है की किताब इंसान को फ़र्स से अर्स तक का सफ़र करा सकती है | इसके दम ओअर हम दुनिया की हर चीज़े पा सकते है |

ऐसा माना जाता है की किताबो से वफादार कोई दोस्त नही होता है | सबसे अच्छा होता है बोलने पहले सोचो और सोचने से पहले एक बार पुस्तक जरुर पढो |

विश्व पुस्तक दिवस 2024
विश्व पुस्तक दिवस 2024

 

विश्व पुस्तक दिवस कब मनाया जाता है | भारत सहित पूरी दुनिया में विश्व पुस्तक दिवस 23 अप्रैल को मनाया जाता है | भले ही बदलते समय के साथ कंप्यूटर और इंटरनेट ने पुस्तक की जगह ले ली है | जिसके वजह से लोग अब किताबो का इस्माल करना काम कर दिया है | लेकिन पुस्तक के महत्व को बनाए रखने के हर साल दुनिया भर में 23 अप्रैल को विश्व पुस्तक दिवस मनाया जाता है |

विश्व पुस्तक दिवस का इतिहास

विश्व पुस्तक दिवस पहली बार 23 अप्रैल को सन 1995 को मनाया गया था | यूनेस्को ने इस दिन को विशेष तौर पर विलियम शेक्सपियर और मिगुएल सर्वेटिस जैसे साहित्यकारों को सम्मान देने के लिए अप्रैल 23 को चुना गया | याद रखने में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की 23 अप्रैल को सन 1922 में पहली बार स्पेनिस राईटर विंसेट क्लेव एंट्रेस ने मिगुएल सर्वेंटिस के साहित्य में उनके योगदान को सामान देने के लिए मनाया गया था |

इसके बाद 23 अप्रैल सन 1955 को पेरिस में आयोजित यूनेस्को के जनरल कोंफ्रेंस में इस दिन को अर्थात 23 अप्रैल को लेकर आम सहमती बनी | ताकि इस दिन के माध्यम से लोगो को पुस्तक पढ़ना सहित सम्बंधित विषयों के प्रति जागरूक किया जा सके |

दुनिया भर में हर साल विश्व पुस्तक दिवस मनाये जाने को लेकर कई मान्यताये है मिगुएल डी सर्वेंटस नाम से फेमस लेखक को श्रद्धांजली देने के लिए स्पेन के किताब बेचने वालो के द्वारा वर्ष 1923 में पहली बार 23 अप्रैल को पुस्तक दिवस मनाया गया | यूनेस्को के द्वारा इसे इसे 23 अप्रैल को मानाने का फैसला क्योकि , ग्रेगोरियन कलेंडर के अनुसार प्रसिद्ध लेखक जिन्होंने लोगो को जीवन जीने का नया नजरिया दिया विलियम शेक्सपियर की पुण्यतिथि एवं इनकी भी पुन्य तिथि इसी दिन थी इस कारण उन्हें श्रद्धांजली देने के उद्देश्य से भी इस दिन को विश्व पुस्तक दिवस के रूप में चुना गया |

पुस्तक दिवस 2024 का थीम

हर साल विश्व पुस्तक दिवस 23 अप्रैल को मनाया जाता है इस दिन हर साल एक नया थीम का निर्धारण किया जाता है जिससे की पुस्तको के महत्व को लोगो तक पहुचाया जा सके | पुस्तक दिवस 2024 का थीम “ रीड योर वे “  है | जो पुस्तक को पढने के प्रति प्यार को बढाने और हर आयु के इंसान को किताबो से जुड़े रहने के लिए प्रोत्सहित् करती है | इसी प्रकार 2023 के पुस्तक दिवस का थीम “ इंडीजेनस लैंग्वेजेज “ जिसका अर्थ विदेशी भाषा था | इस थीम को रखने का मुख्य उद्देश्य देश और दुनिया में मौजूद अलग – अलग भाषाओ का महत्व समझना था |

पुस्तक दिवस 2024
पुस्तक दिवस 2024

महत्व

पुस्तक दिवस लोगो को पुस्तक और लेखको का सम्मान करना सिखाता है | यह दिन उन लोगो के लिए बहुत ही खास होता है जिन्हें पढने का बहुत ही शौक होता है | पुस्तक दिवस दुनिया भर के लेखक , पत्रकार , मिडिया , पुस्तक उद्योग से जुड़े लोगो को सम्मान देने के लिए भी मनाया जाता है | यह दिवस यह सुनिश्चित करता है की साक्षरता को सभी रूपों में बढ़ावा दिया जाना चाहिए |

इसी तरह की मत्वपूर्ण जानकारियों के लिए हमारे इस  पेज को जरुर फोलो करे – sujhaw24.com

 

Join Whatsapp Channel Join Whatsapp Channel
Join Telegram Channel

 

ये भी पढ़े –

1.World Book Day and World Copyright Day 2024 : विश्व पुस्तक दिवस तथा विश्व कॉपीराइट दिवस कब और क्यों इसी दिन मनाया जाता है एक क्लिक पर दिखेंगी 5 लाख किताबें, वाराणसी में 24 हजार पुस्तकें हुईं ऑनलाइन

2.bajrangbali janmostsav 2024 : हनुमान जन्मोस्तव 2024 जाने उनके जन्म की विशेष बाते

3.Big News Himalayan glaciers Pighla : हिमालय के बर्फ पिघलने से क्या डूब जायेगा पूरा भारत इसरो ने दिया जानकारी देखे पूरी सच्चाई

4.hanuman janmotsav 2024 : हनुमान जन्मोत्सव 2024 जाने पूजा की विधि और शुब महूरत

5.Solar Energy : सोलर ऊर्जा क्या है , जाने उसके टॉप पांच प्रकार

 

Leave a Comment