vishv jal diwas 2024 : विश्व जल दिवस 2024 जाने क्यों मनाया जाता है

 

vishv jal diwas 2024 | विश्व जल दिवस

इस दुनिया में 5 तत्व है जो जीवन का आधार माना गया है | उसमे से से एक है जल | यदि दुनिया से जल को हटा दिया जाये तो इस पृथ्वी पर जीवन की कल्पना ही नही की जा सकती है | जल का महत्व एस बात का भी परिचयक है की दुनिया की बड़ी बड़ी सभ्यताए और प्राचीन नगर नदी किनारे ही बसे और फले फुले | लेकिन वर्तमान समय की विकास की इस अंधी दौड़ में प्राकृतिक संसाधनों का तो कोई मोल ही नही रह गया है | जल की बिना इस पृथ्वी में जीवन की कल्पना करना मुर्खता के सामान है |

हर साल दुनिया भर में जल के महत्व को समझाने के लिए 22 मार्च को विश्व जल दिवस मान्य जाता है |

 विश्व जल दिवस 2024
विश्व जल दिवस 2024

 

 विश्व जल दिवस कब से शुरू हुआ

ब्राजील के रिओ डी जेनेरिया के संयुक्त राष्ट्र सम्मलेन में साल 1992 में विश्व जल दिवस मनाने की पहल की गयी थी | संयुक्त राष्ट्र द्वारा यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया गया और हर साल 22 मार्च 1993 को पहली बार पुरे विश्व में विश्व जल दिवस मनाया गया | इसके बाद से हर साल 22 मार्च को विश्व जल दिवस मनाया जाता है |

विश्व जल दिवस मनाने का उद्देश्य

जल के बिना जीवन की कल्पना करना असंभव है | कहा जाता है की जल है तो कल है | और जल ही जीवन है | इस दिन को विश्व स्तर पर मानाने का उद्देश्य लोगो को पानी के महत्व को बताना है साथ ही पानी की बर्बादी को रोकना भी है | इसका उद्देश्य लोगो को जल संक्षण के लिए जागरूक करना | लोगो पानी को भविष्य के लिए बचा कर रखने का सन्देश देना इस दिवस का उद्देश्य है |

आज बढती जनसंख्या और जागरूकता की कमी के कारन देश और दुनिया के कई हिस्सों में पानी की कमी हो गयी है | लोगो को दैनिक आवश्कताओ के साथ ही पिने का पानी भी नही मिल रह है | इस लिए जल संरक्षण को लेकर जागरूकता फैलाना और भी जरुरी हो गया है | पानी का सोच समझकर प्रयोग करना पानी की बर्बादी न करना विश्व के हर इंसान क कर्तव्य है |

रहिमन पानी राखिये , बिन पानी सब सुन |

पानी गये न ऊबरे , मोती मानुष चुन ||

विश्व जल दिवस
विश्व जल दिवस

 

विश्व जल दिवस 2024 का महत्व

इस दुनिया में जीवो का जन्म पानी से संभव हुआ है पानी के बिना जीवन की कल्पना मात्र भी संभव प्रतीत नही होती है | प्राची संस्कृति का विकास भी नदियों के किनारे ही किये जाते थे | वर्तमान में बढती जनसख्या और प्रदुषण से पानी की कमी हो रही है | इसके साथ ही साथ विभिन्न कंपनियों एवं कारखानों द्वारा पानी खपत में वृद्धि हुयी है |इस लिए जल संरक्षण को लेकर लोग में जागरूकता फैलाना आवश्यक है |

पानी का सोच समझ कर प्रयोग करना पानी की बर्बादी न करना यह हम सभी का कर्तव्य है | विश्व जल दिवस2024 इन सभी बातो को रेखांकित करता है | इस धरती पर मौजूद हर जिव जीवन के लिए पानी पर आश्रित है |

विश्व जल दिवस 2024 का थीम

हर साल विश्व जल दिवस एक निर्धारित थीम के तहत ही मनाया जाता है | इस साल विश्व जल दिवस 2024 का थीम water for peace रखा गया है इस थीम के द्वारा जल क्षेत्रो में तेजी और तत्कालीनता के मत्व पर जोर दिया गया है | साथ ही लोगो , समुदाय और पर्यावरण पर प्रभाव डालने वाले महत्वपूर्ण जल सम्बन्धी मुद्दों को संबोधित किया जाएगा | इस साल दुनिया भर में यह जल दिवस इसी थीम के तहत मनाया जाएगा |

जल है तो जीवन है , जीवन है तो पर्यावरण है ,

पर्यावरण से ये धाती है , और इस धरती से हम सब |

विश्व जल दिवस 2024 का थीम
विश्व जल दिवस 2024 का थीम

 

पानी खपत

भारत में हर इंसान एक दिन में लगभग 45 लीटर पानी की खपत करता है | हर इंसान को औसतन 30 से 50 लीटर पानी की जरूरत होती है लेकिन 88.4 करोड़ लोगो को इस जरूत की पानी का 10 प्रतिशत हिस्सा भी नही मिल पाता है | एक रिसर्च के आधार पर यह पता चला है की विश्व के सिर्फ 20 प्रतिशत लोगो को ही पिने का शुद्ध पानी मिल पाता है |

मुंबई और दिल्ली जैसे दो बड़े महानगरो में वाहन धोने के लिए हर दिन लगभग 1.20 करोड लीटर पानी खर कर दिया जाता है | दिल्ली , मुंबई , चेन्नई में पाइप लाइन की खराबी के कारन हर रोज 17 से 44प्रतिशत पानी बह जाता है | पिने के लिए मनुष्य को हर दिन 3 लीटर पानी की जरूरत होती है वही पशुओ को एक दिन में पिने के लिए 50 लीटर पानी की जरूरत होती है |

जल संरक्षण के उपाये

  • ब्रश करते समय नल को बंद ही रखे
  • वर्षा जल का सग्रह करके हम पानी बचा सकते है |
  • विभिन्न जलाशयों का निर्माण करके पानी को बचाना पुराना उपाए है इसे आहे भी जरी रखा जा सकता है |
  • टपक विधि के द्वारा खेती में सिंचाई करके भी पानी को बचाया जा सकता है | भूमि गत जल के संरक्षण के लिए कृत्रिम उपायों द्वारा भूमि गत जल को बचाया जा सकता है |
  • बेकार बह रहे नल को तुरंत बंद कर दे |
  • एक बार प्रयोग हो चुके जल को कई जगहों पर पुन: प्रयोग में ला सकते है जैसे शौचालयों में |
संयुक्त राष्ट्र सम्मलेन
संयुक्त राष्ट्र सम्मलेन

 

दुनिया भर में जल संकट

भारत सहित पुरी दुनिया में बहुत सी ऐसी जगहे है जहा पर पानी की समस्या बढती जा रही है | सयुक्त राष्ट्र के एक रिपोर्ट के अनुशार 2050 तक दुनिया में पानी का संकट भारत में सबसे जादा  होगा | इसके साथ ही भारत के पडोसी राज्य चीन , पाकिस्तान भी जल संकट से जूझ रहे होगे | UN की एक रिपोर्ट के अनुसार विश्व की लगभग 1.7 से 2.40 अरब की शहरी आबादी पानी की संकट से जूझेगी |

इसी तरह की महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए हमारे इस पेज को जरुर फोलो कीजिये – sujhaw24.com   

 

ये भी पढ़े – 

1.Artificial Intelligence Benefit : AI के बारे में जाने देखे कैसे बंदर में चिप से ले कर किसी के मन की बात पढने तक

2.gauraiyaa diwas : गौरैया दिवस की पूरी जानकारी देखे यहाँ

3.Love Education : प्रेम शिक्षा में देखिये क्या सही और क्या गलत

4.bhart ke pramukh vaigyaanik : भारत के प्रमुख वैज्ञानिक जाने उनके बारे में

5.best suvichar : देखिये सबसे अच्छे सुविचार

Leave a Comment