mahaveer jaynti 2024 : महावीर जयंती 2024 जाने कौन थे महावीर भगवान

 

mahaveer jaynti 2024 |  महावीर जयंती 2024

mahaveer jaynti 2024 : महावीर भगवान पुरे भारत में एक महान संत थे | महावीर जयंती को जैन समुदाय के लोगो द्वारा मनाया जाता है | महावीर जयंती जैन धर्म के लोगो का प्रमुख पर्व है | हार वर्ष चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि पर महावीर जयंती मनायी जताई है | इस दिन को जैन धर्म के लोग बहुत ही धूम धाम से मानते है | इस दिन भगवान् महावीर जी की प्रतिमा के साथ जुलुस निकला जाता है | महावीर जयंती को भगवान महावीर जी के जन्म उत्सव पर मनाया जाता है |

भगवान महावीर जी
भगवान महावीर जी

महावीर भगवान जी का जीवन परिचय

महावीर जैन जी जैन धर्म के संस्थापक है | महावीर भगवान् जी जैन धर्म के लोगो का प्रमुख भगवान है | महावीर भगवान् जी का जन्म 599 ईसापूर्व में हुआ था | उनका जन्म भारत के बिहार राज्य में वैशली जिले के कुंडल पुर में हुआ था | उनका जन्म एक संपन्न परिवार में हुआ था | महावीर जी के माता भगवान् महावीर जी का वास्तविक नाम वर्धमान था महावीर जे के पिता जी का नाम राजा सिद्धार्थ और उनकी माता जी का नाम रानी त्रिफला था |

महावीर जी के माता पिता क्षत्रिय थे और उनका पालन पोषण एक धनि परिवार में हुआ | महावीर जी के बच्पकं का नाम वर्धमान था जिसका अर्थ समृद्ध या बढना था | कभी कभी उन्हें निगंथा नटपुत कहा जाता था | जिसका अर्थ उन लोगो का नेता जो बंधन मुक्त थे | महावीर जी की एक बहन और एक भाई था बहन का नाम विशाखा और उनके भाई का नाम नंदा था | जब महावीर जी 30 साल के तब उन्होंने राजकुमार के रूप में आरामदायक जीवन का त्याग करके आध्यात्म की ओर चले गये और तपस्वी बने |

महावीर जी ने आध्यात्म को ग्रहण करने के लिए अपना घटर परिवार राज महल , धन दौलत सब को त्याग दिया | वे अगले 12 सालो तक एक भिखारी , भिक्षु क्वे रूप में घूमते रहे और भिक्षा मांग कर अपना पेट भरते थे | इस दौरान महावीर जैन जी ने घोर तपश्या की और ध्यान का अभ्यास किया | महावीर जी उपवास भी करते थे | वे साधारण कपडे पहनते और नंगे पाँव चलते थे | 42 साल आयु में महावीर जी को एक पेड़ के नीच ध्यान करते हुए ज्ञान की प्राप्ति हुयी | इसके बाद उन्होंने अपने 30 साल अपने अनुयायियों को धर्म के सिधान्तो को सिखाने में बिताया |

उन्होंने 72 साल की आयु में मोक्ष प्राप्त किया | उनकी मृत्यु किए बाद जैन धर्म उनके शिष्यों के नेत्रित्व में फला फुला | और भारत देश के प्रमुख धर्मो में से एक बन गया | महावीर जैन जी सभी जीवित प्राणियों के लिए अहिंसा की वकालत करते थे | उन्होंने यह उपदेश दिया की आत्मा शुद्ध और अनंत है | वह सही ज्ञान , विश्वास , और आचरण के माध्यम से मुख्ति पा सक्ती है |

महावीर जी के सिद्धांत
महावीर जी के सिद्धांत

महावीर जी के सिद्धांत

महावीर जी ने लोगो को पांच सिद्धांत दिए है –

  1. जिस प्रकार धागे से बंधी सुई खो जाने से सुरक्षित है , उसी प्रकार स्वाध्ययन में लगा व्यक्ति कभी खो नही सकता |
  2. वो जो सत्य जानने में मदद कर सके , चंचल मन को नियंत्रित कर सके , और आत्मा को शुद्ध कर सके उसे ज्ञान कहते है |
  3. हर एक जीवित प्राणी के प्रति दया रखो , घृणा से विनाश होता है |
  4. सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष के वजह से दुखी होता है , और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते है |
  5. आत्मा अकेले आती है अकेले चली जाती है , न कोई उसका साथ देता है न कोई उसका मित्र बनता है |

भगवान महावीर जी के संस्कार

  1. अहिंसा
  2. सत्य
  3. ईमानदारी
  4. ब्रह्मचर्य
  5. गैर भौतिक चीजों से दुरी

इसी तरह की मत्वपूर्ण जानकारियों के लिए हमारे इस पेज को जरुर फोलो करे – sujhaw24.com

ये भी पढ़े –

1.loksabha chunaw 2024 chhattisgarh : सूअर बेच कर अपनी बहु को लडवा रहा है लोकसभा चुनाव 2024 जाने उनकी कहानी

2.loksbha chunaw cg 2024 prtham charn : लोकसभा चुनाव छत्तीसगढ़ 2024 प्रथम चरण जाने कौन की पर भरी

3.Loksabha chunaw ubgl blast : लोकसभा चुनाव के दौरान UBGL फटने से CRPF जवान घायल जाने इसके बारे में

4.Loksabha chunav chhattisgarh 2024 : लोकसभा चुनाव छत्तीसगढ़ जाने कहा से किसे मिला है सिट

5.gram lamkeni abhanpur : ग्राम लमकेनी अभनपुर छत्तीसगढ़ की प्रमुख बाते

 

Leave a Comment