big news water crisis : जल संकट देखिये भारत और विश्व में कैसे यह एक गंभीर समस्या बनता जा रहा है

water crisis : जल संकट

जल संकट एक ऐसी स्थिति जो भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया इसकी चपेट में आ रही है| water crisis  ऐसी है जो बहुत भयावह है| पानी न हो तो जीव-जंतु, सजीव आदि जीवित नहीं रह पाएंगे | water crisis ऐसे किसी क्षेत्र जहाँ पर पीने योग्य पानी हो और उसकी मांग वहां पर उपलब्ध अप्रदूषित जल से अधिक हो | यह जल संकट अभी की बात नहीं है, यह लगभग 1 दशको से भयावह रूप लेता जा रहा है| यह संकट कोई आम बीमारी की तरह नहीं है | जल संकट का सबसे प्रमुख कारण मनुष्य और उसी के कारण होने वाला जलवायु परिवर्तन है|

water crisis, water crisis in india, water crisis in world
water crisis

water crisis in world : विश्व में जल संकट

विश्व में भी जल संकट का खतरा उत्पन्न हो गया है बल्कि और बढ़ रहा है| संयुक्त राष्ट्र के अनुसार जलवायु संकट के पश्चात पुरे water crisis in world  जो है इस शताब्दी का सबसे बड़ा संकट है| विश्व में लगभग 20% से अधिक आबादी जल की कमी से परेशान और जूझ रहे है| यह अनुमान लगाया गया है की 2050 तक दुनियाभर के शहरी इलाको में पानी की जो मांग है उसमे 80% तक इजाफा होगा| ऐसे समय में विश्व के 36 शहरों में पीने योग्य पानी नहीं बच पायेगा|

विश्व में 785 मिलियन लोग पीने योग्य पानी के बिना रहते है अर्थात उन्हें पीने के लिए साफ़ पानी नहीं मिल पाता है| प्रत्येक दिवस 1000 से अधिक 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे दूषित जल, और असुरक्षित साफ़-सफाई के कारण होने वाली बीमारियों की वजह से उनकी मृत्यु हो जाति है| 1.69 अरब लोग पर्याप्त सैनिटेसन के बिना रह जाते है और लगभग 419 मिलियन लोग खुले में शौच करते है|

water crisis in india : भारत में जल संकट

water crisis in india एक प्रमुख समस्या बनकर उभरा है | और यह अभी की बात नहीं है यह कुछ सालो में और अधिक बढ़ा है| यह एक गंभीर समस्या है| निति आयोग के 2019 के एक रिपोर्ट के अनुसार 2030 तक भारत में जल की मान वर्तमान में उपलब्ध पानी की मांग  के अपेक्षा दोगुनी हो जाएगी| इससे लाखो लोग पानी की कमी से जूझेंगे| जिससे मनुष्य को बहुत परेशानी तो जरुर होगी | इसके कारण देश में सकल घरेलु उत्पाद में लगभग 6% का नुकसान होगा| एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2041-2080 के समय भारत में भूजल की कमी की दर ग्लोबल वार्मिंग के साथ वर्तमान दर से तीन गुना अधिक होगा | जल की कमी और उस तक पहुँचने में आने वाली मुस्किलो के कारण हर साल लगभग 2 लाख लोगो की मृत्यु हो जाति है|

water crisis in india
water crisis in india

reasons of water crisis in india : भारत में जल संकट के कारण

भारत देश एक कृषि प्रधान देश है| जिस वजह से भारत का आधे से ज्यादा जल कृषि में उपयोग होता है| देश के कुल जल का लगभग 80% हिस्सा किसानी में उपयोग होता है| भारत में निकले गए भूजल का 89% सिंचाई के लिए इस्तेमाल किया जाता है|

1. भारत में भूजल का अत्यधिक दोहन करना |
2. अपर्याप्त बारिश से जल का ठीक से संचयन न न कर पाना |
3. अत्यधिक जल का सिंचाई में इस्तेमाल करने से |
4. कम बारिश और अत्यधिक जल के दोहन के कारण |
5. शहरीकरण और नगरीकरण तथा उद्योगों-कारखानों के चलते पानी का प्रदुषण होना |
6. मनुष्य द्वारा जल का उपयोग नहाने में , घर का सामान धोने में, जानवर धोने में, आदि में उपयोग करने से |
7. जल का ठीक से प्रबंधन न करने से |
8. इंसानों द्वारा जल प्रदुषण करने से |आदि|

ऐसे ही देश, दुनिया, राज्य और शिक्षा के बारे में अधिक जानकरी जानने के लिए हमारे वेबसाइट को जरुर फॉलो करे :- sujhaw24.com

Join Whatsapp Channel Join Whatsapp Channel
Join Telegram Channel download 1 2

 

यह भी पढ़े :-

1.big news Uttarakhand forest fire incident 2024 : उत्तराखंड जंगल अग्नि कांड जाने इसका इसका कारण सरकार क्यों है बेबस

2.India’s most modern solar panel : भारत का सबसे आधुनिक सोलर पैनल जाने इसके बारे

3.Big News Whatsapp Exit In India : व्हाट्सएप्प अब भारत छोड़ कर जाने वाला है जाने क्या है पूरी सच्चाई

4.Biography in kavi tulsidas : कवी तुलसीदास जी के बारे में जन्म से लेकर अंत तक की कहानी

Leave a Comment