jalvayu parivartan : जाने क्या है हिटवेव के प्रभाव

 

 jalvayu parivartan | हिटवेव 

 jalvayu parivartan : चरम गर्म हवाओ की बहुत ही लम्बी अवधि होती है | जिसमे गर्म हवाए लोगो को झुलसा देती है | ये  गर्म हवाए मानव के स्वास्थ्य पर , पर्यावरण पर , और देश सहित राज्यों की अर्थव्यवस्था पर बुरा प्रभाव डालती है | हमारा देश भारत उष्णकटिबंधीय देश होने के कारण हिटवेव के प्रति अधिक संवेदनशील है | जो वर्तमान के समय में जलवायु परिवर्तन के कारन और भी तीव्र हो गयी है | वर्तमान में गर्मी के दिनों में दिन समय गर्म हवाओं ने लोगो का जीना मुस्किल कर दिया है | इन सब का कारन पृथ्वी का तापमान बढना है |

छत्तीसगढ़ में हिटवेव का कहर
छत्तीसगढ़ में हिटवेव का कहर

छत्तीसगढ़ में हिटवेव का कहर

मौसम विभाग ने छत्तीसगढ़ सहित देश के चार राज्यों के लिए हिटवेव की चेतावनी जारी की है | इन राज्यों में छत्तीसगढ़ सहित झारखंड , ओड़िसा , बिहार और पश्चिम बंगाल शामिल है | छत्तीसगढ़ सहित इन राज्यों में शनिवार को तापमान 42 डिग्री सेल्सिअस के ऊपर दर्ज किया गया है | छत्तीसगढ़ के अलावा ओड़िसा के कुछ जिलो में तापमान 45 डिग्री के करीब दर्ज किया गया | देश के मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार आने वाले 3 – 4 दिन तक ऐसी ही हालत रहेंगे | छतीसगढ़ के राजनांदगाव जिले में दिन के समय का तापमान शनिवार को 43 डिग्री दर्ज किया गया |

जलवायु परिवर्तन

जलवायु का आशय किसी दिए गये क्षेत्र में लम्बे समय तक औसत मौसम से होता है | जब किसी क्षेत्र विशेष के औसत मौसम में परिवर्तन आता है तो उसे जलवायु परिवर्तन कहा जाता है | जलवायु परिवर्तन को किसी स्थान विशेष पर भी महसूस किया जा सकता है | वर्तमान समय में जलवायु परिवर्तन का प्रभाव सम्पूर्ण विश्व पर पड रहा है | पृथ्वी का अध्ययन करने वाले वैज्ञानिक बताते है की धरती का तापमान लगातार बाद रहा है | हमारी इस धरती का तापमान बीते 100 सालो में 1 डिग्री फैरनहाईट तक बाद गया है |

हिटवेव का प्रभाव
हिटवेव का प्रभाव

छत्तीसगढ़ में हिटवेव का कारण

  1. ग्लोबल वार्मिंग – यह छत्तीसगढ़ सहित पुरे भारत में हिटवेव के प्रथमिक कारण है जो मनो गतिविधि के कारन जैसे जीवाश्म इंधन के जलने , वनों की कटाई , और कई औद्योगिक गतिविधियों के कारण धरती का तापमान बाद रहा है |
  2. शहरीकरण – तेजी से शहरीकरण और शहरो के कन्क्रेटीकरण संरचनाओ के विकास के कारण शहर उष्मा द्वीप के रूप में काम कर रहे है जो धरती के तापमान को बढाने में उचित भूमिका निभाते है |
  3. अलनीनो प्रभाव – अलनीनो के घटना के दौरान प्रशांत महासागर का गर्म होना वैश्विक मौसम पैटर्न को प्रभावित करती है | जिससे दुनिया भर के तापमान , वर्षा और वायु के पैटर्न में बदलाव हो सकता है |

जलवायु परिवर्तन कारण

  1. वनों की अंधा – धुंध कटाई
  2. रोगों का प्रसार जैसे डेंगू , मलेरिया आदि
  3. शहरीकरण
  4. बढती जनसंख्या
  5. जलवायु परिवर्तन का सबसे प्रमुख कारन इंधन के जलने से उत्पन्न विषैली गैसे
  6. ग्रीन हाउस गैसे जैसे कार्बन डाई ऑक्साइड , मीथेन नाईट्रस ऑक्साइड आदि के कारन से भी जलवायु परिवर्तन होता है |

हिटवेव का प्रभाव

हिटवेव का मानव का मानव स्वास्थ्य पर पर कई हानिकारक प्रभाव उत्पन्न करता है | इससे शारीर में कई सारे रोग उत्पन्न हो सकते है जैसे – शरीर तापमान नियंत्रण क्षमता को प्रभावित कर सकती है | गर्मी में शरीर ऐठन , थकावट , हिट स्ट्रोक और हाइपर थर्मिया हो सक्ती है |

यह आर्थिक गतिविधियों , उत्पादकता और कमजोर आबादी को बुरी तरह से प्रभावित कर सकती है |गर्मी से होने वाली मौते बढ़ जाती है | अस्पताल में मरीजो की संख्या दोगुनी हो जाती है | हिटवेव भारत में जल की कमी के मामलो को बढ़ सक्ती है | हिटवेव से बचने के लिए लोग पंखे , कूलर आदि का प्रयोग करेंगे जिससे बिजली मांग बढ़ जाएगी और ऊर्जा पर प्रभाव बढ़ जाएगा |

हिटवेव से बचने के उपाए

  1. अपने घर को ठंडा रखे
  2. रात में खिड़की खुली रखे
  3. हलके रंग के कपडे पहने
  4. दोपहर की धुप से बचे
  5. लगातार पानी पिते रहना चाहिए

इसी तरह की मत्वपूर्ण जानकारियों के लिए हमारे इस इस पेज को जरुर फोलो करे – sujhaw24.com

Join Whatsapp Channel Join Whatsapp Channel
Join Telegram Channel download 1 2

 

ये भी देखे :-

1.mahaveer jaynti 2024 : महावीर जयंती 2024 जाने कौन थे महावीर भगवान

2.loksabha chunaw 2024 chhattisgarh : सूअर बेच कर अपनी बहु को लडवा रहा है लोकसभा चुनाव 2024 जाने उनकी कहानी

3.Lok sabha chunav pahla charan : बस्तर में 67 फीसदी से अधिक मतदान जानिए किन हालातो से सामना करते हुए चुनाव संभव हुआ

4.loksbha chunaw cg 2024 prtham charn : लोकसभा चुनाव छत्तीसगढ़ 2024 प्रथम चरण जाने कौन की पर भरी

5.Loksabha chunaw ubgl blast : लोकसभा चुनाव के दौरान UBGL फटने से CRPF जवान घायल जाने इसके बारे में

Leave a Comment