Lal Krishna Advani Bharat Ratn | लालकृष्ण आडवानी को 2024 में भारत रत्न

लालकृष्ण आडवानी II Lal Krishna Advani

श्री लालकृष्ण आडवानी भाजपा के वर्तमान में सबसे वृद्ध नेता है जिनकी उम्र अभी 96वर्ष है| देश के सबसे बड़े नागरिक सम्मान Bharat Ratn से Lal Krishna Advani को 2024 में सम्मानित किया जायेगा| इसकी जानकारी श्री नरेन्द्र मोदी जी ने 3 फरवरी २०२४ को दी | श्री अटल बिहारी बाजपेयी और श्री देशमुख जी के बाद ये सम्मान पाने वाले तीसरे भाजपा नेता है |भारत रत्न पाने वाले Lal Krishna Advani 50 वे इन्सान है | लालकृष्ण आडवानी जी का जन्म 8 नवम्बर १९२७ को कराची में हुआ था, २००२ से २००४ के बिच अटल बिहारी जी की सरकार में 7 वे उपप्रधानमंत्री रहे थे | और १९९८ से २००४ के बिच NDA कि सरकार में गृहमंत्री रहे थे |

2024 Me Lal Krishna Advani ko Bharat Ratn Se Sammanit Kiya Jayega.
Lal Krishna Advani Ji Ko Bharat Ratn.

लालकृष्ण आडवानी का राजनितिक परिचय II Political Carrier

लालकृष्ण आडवानी की राजनितिक सफ़र की सुरुआत १९४२ में राष्ट्रिय स्वयंसेवक संघ (RSS) के वालेंटियर के तौर पर हुई थी | ये १९७० से १९७२ तक जनसंघ की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष रहे थे | १९७३ से १९७७ तक जनसंघ के राष्ट्रिय अध्यक्ष का पद संभाला| १९७० से १९८९ तक चार बार राज्यसभा के सदस्य भी रहे| १९७७ में जनता पारी के महासचमहासचिव भी रहे|  १९७७ से १९७९ तक केंद्र में मोरार जी देसाई की अगुवाई में जनता पार्टी की सरकार में सुचना एवं प्रसारण मंत्री के पद पर थे| १९८६ से १९९१ और १९९३ से १९९८ और २००४ से २००५ तक BJP के रष्ट्रीय अध्यक्ष रहे थे,१९८९ में वे ९ वी लोकसभा के लिए दिल्ली से सांसद चुने गए|   १९९८  से लेकर २००४ तन NDA की सरकार में गृह मंत्री के पद पर रहे| २००२ से २००५ तक उपप्रधानमंत्री रहे थे|

lal krishna advani
lal krishna advani

लाकृष्ण आडवानी का योगदान II Advani Ji Ka Yogdan

Lal Krishna Advani ने जनसंघ को भाजपा बनाने के लिए सबसे ज्यादा योगदान दिया था| इन्होने अपने राजनितिक जीवन में आधा दर्जन यात्राये निकलते थे|  इनमे राम रथ यात्रा, जनादेश यात्रा, स्वर्ण जयंती रथ यात्रा, भारत उदय यात्रा, भारत सुरक्षा यात्रा, जनचेतना यात्रा, आदि|   वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने सोशल मीडिया X पर उन्होंने लिखा की – मुझे यह बताते हुए बहुत ख़ुशी हो रही है की लालकृष्ण आडवानी जी को भारत रत्न से सम्मानित किया जायेगा|  और मैंने उन्हें बधाई भी दी| pm ने आगे लिखा – वे हमारे समय के सबसे सम्मानित स्टेट्समैन है| देश के विकास  के लिए  उनका योगदान कोई भूल नहीं सकता| उन्होंने जमीनी स्तर से काम शुरु किया था और वे देश के उपप्रधानमंत्री पद तक पहुंचे| वे देश के सुचना और प्रसारण मंत्री भी रहे|  उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया जाना मेरे लिए भावुक क्षण है| मई मै इसे हमेशा अपना सौभाग्य मानूंगा की मुझे उनके साथ बातचीत करने और उनसे बहुत कुछ सिखने को मिला|

advani ji aur narendra modi
advani ji aur narendra modi

 

आडवानी जी को पद्म विभूषण II Advani Ko Padma Vibhushan

२०१५ में Lal Krishna Advani जी को देश के दुसरे सबसे नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था| और उसी साल अटल जी को Bharat Ratn दिया गया था|

Lal Krishna Advani Ji ko Padma Vibhushan
2015 me Lal Krishna Advani Ko Padma Vibhushan Se Former President Shree Pranab mukharji dvara sammanit kiya gaya tha.

ये भी पढ़े:-

1.Mahatari vandan yojna : महतारी वंदन योजना के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

2.chhattisgarh budget 2024 : छत्तीसगढ़ का बजट सत्र 2024 शुरू देखे आज क्या हुआ खास

3.Lamkeni Ki Halat : ग्राम लमकेनी – देखे इन गांवो के हालत कैसे ही इनके हाल कोई सरकार नहीं दे रही ध्यान

4.Kutumsar Gupha : कुटुम्सर गुफा – छत्तीसगढ़ के अद्भुत पर्यटन स्थल रोचक बाते

कट्टर हिंदुत्व का चेहरा

  1. राम मंदिर मुद्दा = आडवानी राम जन्मभूमि आन्दोलन में भाजपा का व्हेहरा रहे| 80 के दशक में विश्व हिन्दू परिषद् ने राम मंदिर निर्माण आन्दोलन शुरु किया| १९९१  में भाजपा मंडल कमीशन की कट के रूप में मंदिर मुद्दा लेकर आई और रामरथ पर सवार होकर देश की मुख्य विपक्षी पार्टी के रूप में उभरी|
  2. आधा दर्जन यात्रा निकाली = आडवानी ने १९९० में सोमनाथ से अयोध्या तक रथ यात्रा की| उनके सियासी जीवन में राम यात्रा सबसे अधिक महत्वपूर्ण और चर्चित रहा|
  3. युवा नेता की फ़ौज = भाजपा की मौजूदा पीढ़ी के ९० % से ज्यादा नेता आडवानी जी ने ही तैयार किये है|
  4. हैरतंगेज कारनामे = आडवानी ने १९९५ में अटल बिहारी बाजपेयी को PM पद का दावेदार बताकर सबको हैरत में डाल दिया था|
  5. आरोप से इस्तीफा  = आडवानी का 50 साल इ ज्यादा का सियासी जीवन बेदाग रहा, १९९६ में आडवानी सहित विपक्ष के बड़े नेताओ का हवाला कांड में नाम आया|  तब आडवानी ने इस्तीफा देकर  कहा की वे इसमें बेदाग निकलने के बाद ही चुनाव लड़ेंगे| १९९६ में बेदाग साबित हो गए|
  6. नोट = लालकृष्ण आडवानी के अलावा बिहार के पूर्व CM कर्पूरी ठाकुर को भी मरणोपरांत भारत रत्न देने का एलान  हुआ है|

Leave a Comment